सिविल इंजीनियर कैसे बने | How to become a civil engineer

सिविल इंजीनियर कैसे बने?

सिविल इंजीनियरिंग क्या है
कंस्ट्रक्शन निर्माण कार्य जैसी बिल्डिंग, रोड, नहर, रेलवे ट्रैक, सेतु आदि निर्माण संबंधित कार्यों का डिजाइन करना, कार्य करने की रुपरेखा बनाना, निर्माण पर आने वाली लागत एस्टीमेट बनाना, निर्माण कार्य में आने वाली समस्याओं को पहले से ही चिन्हित करना, और कार्य को बिना किसी दिक्कत परेशानी के सुचारु रुप से कंपलीट कराना सिविल इंजीनियर की मुख्य जिम्मेदारी होती है.

सिविल इंजीनियर कोर्स करने की शैक्षणिक योग्यता

जूनियर सिविल इंजीनियर:-
जूनियर इंजीनियर बनने के लिए आपको डिप्लोमा कोर्स करने की जरूरत होती है. और डिप्लोमा में एडमिशन लेने के लिए आप 10th पास होने चाहिए. और 10th में फिजिक्स केमेस्ट्री मैथ होना चाहिए.
10th के बात डिप्लोमा कोर्स 3 वर्ष का होता है
3 वर्ष का डिप्लोमा कंप्लीट करने के बाद आप जूनियर इंजीनियर का एग्जाम दे सकते हैं.

सीनियर सिविल इंजीनियर:-
सीनियर सिविल इंजीनियर बनने के लिए आपको
BE , B.TECH Civil Engineering में करना पड़ेगा
B.E , B.TECH कोर्स 4 वर्षों का होता है.
B.E, B.TECH करने के लिए आप 12TH पास होने चाहिए और 12TH में आपका फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ होना चाहिए.

सिविल इंजीनियरिंग क्षेत्र में प्रमुख कोर्स
DIPLOMA IN CIVIL ENGINEERING
B.E, IN CIVIL ENGINEERING
B.TECH IN CIVIL ENGINEERING
M.TECH IN CIVIL ENGINEERING
P.HD IN CIVIL ENGINEERING

सिविल इंजीनियरिंग करने के बाद रोजगार के अवसर

सरकारी नौकरी-
सिविल इंजीनियर के लिए सभी स्टेट के पब्लिक वर्क डिपार्टमेंट PWD में वैकेंसी आती है.

RAILWAY DEPARTMENT में सिविल इंजीनियर को जॉब मिलती है.

Central PWD में सिविल इंजीनियर का सिलेक्शन होता है.

Diploma students के लिए SSC je का एग्जाम कराया जाता है इस एग्जाम के द्वारा कई डिपार्टमेंट में सिविल इंजीनियर का सिलेक्शन किया जाता है.

B.E/B.TECH के लिए असिस्टेंट इंजीनियर की पोस्ट और सीनियर इंजीनियर की पोस्ट पर वैकेंसी आती है PWD, Central PWD, railway etc.

M.TECH स्टूडेंट्स के लिए सरकारी B.tech कॉलेज में टीचर पोस्ट के लिए वैकेंसी आती है.

P.hd स्टूडेंट के लिए सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रोफेसर पोस्ट की वैकेंसी आती है.

और इसके साथ-साथ पब्लिक सेक्टर की अर्ध सरकारी कंपनियों में भी सिविल इंजीनियर के लिए वैकेंसी आती है जिससे हम PSU JOB बोलते हैं.

प्राइवेट सेक्टर में रोजगार के अवसर:-

गवर्नमेंट सेक्टर के साथ-साथ प्राइवेट सेक्टर में भी सिविल इंजीनियरिंग जॉब की अपार संभावनाएं हैं

बिल्डिंग बनाने वाली कंपनियों में सिविल इंजीनियर के लिए जॉब आती है.

रोड बनाने वाली कंपनियों में सिविल इंजीनियर के लिए जॉब आती है.

रोड बिल्डिंग घर आदि निर्माण कार्य का नक्शा बनाने के लिए सिविल इंजीनियर को जॉब पर रखा जाता है.

रोड , बिल्डिंग , घर  , रेल , पुल , पुलिया बनाने से पहले सर्वे करने का कार्य किया जाता है. इस कार्य में भी सिविल इंजीनियर की जरूरत होती है.

सिविल इंजीनियरिंग के बाद बिजनेस:-

सिविल इंजीनियरिंग करने के बाद यदि आपको Job ना मिल रही हो तो आप खुद का बिजनेस भी स्टार्ट करके अच्छा पैसा कमा सकते हैं.

यदि आप पढ़ने में अच्छे हैं तो कोचिंग सेंटर खोल कर पैसा कमा सकते हैं.

यदि आपको घर का नक्शा बनाना आता है तो आप लोगों के लिए घर का नक्शा बनाकर पैसा कमा सकते हैं.

आप अपनी कंस्ट्रक्शन कंपनी बनाकर रोड, घर, पुल पुलिया बनाने का कांटेक्ट लेकर पैसा कमा सकते हैं.

सिविल इंजीनियर की सैलरी:-

यदि हम सिविल इंजीनियर की सैलरी की बात करें तो
10000 से 50,000 के बीच प्रति महीना औसतन सैलरी होती है. सैलरी काबिलियत के हिसाब से ज्यादा से ज्यादा भी हो सकती है.

आपको यह पोस्ट कैसा लगा कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर से जरूर बताएं

अपना ख्याल रखें अपने मम्मी पापा का अपने से भी ज्यादा ख्याल रखें इसी भाव के साथ आप सभी से विदा लेते हैं धन्यवाद

Spread the love

2 thoughts on “सिविल इंजीनियर कैसे बने | How to become a civil engineer”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top